कभी असहायों को राशन वितरित कर तो कभी किसी अनजान का खोया मोबाइल फोन वापस कर मित्रता का संदेश दे रही है उत्तरकाशी पुलिस

उत्तरकाशी (महानाद) : यूँ ही हमारी उत्तराखंड पुलिस को मित्र पुलिस नहीं कहा जाता है। जहां एक ओर कोरोना वायरस के संक्रमण से पूरी दुनिया परेशान है और अपने घरों में कैद है, वहीं अपनी कर्तव्य को लगन और ईमानदारी से करते हुए उत्तराखंड पुलिस की सभी शाखायें मानवता की भी मिसाल पेश कर रही हैं।

बृहस्पतिवार 9 अप्रैल को जब उत्तरकाशी फायर सर्विस में नियुक्त जवान नीरज राणा NIM बाय पास तिराहे पर ड्यूटी कर रहे थे तो अचानक सड़क पर गिरे मोबाइल पर उनकी नजर पड़ी। नीरज ने मोबाइल को उठाया और देखा कि उस वक्त आस-पास कोई भी नहीं था और यह सोचकर उन्होंने उसे अपने पास रख लिया कि जिसका फोन होगा, वह जरूर काॅल करेगा।

थोड़ी देर पश्चात ही कोटी (लदाड़ी) गांव के सतेंद्र का फोन उस पर आया और अपना फोन खोने की बात कही। नीरज द्वारा सतेंद्र को बुलाकर उक्त मोबाइल को उसके सुपुर्द किया गया। फायर सर्विस का यह जवान एक कुशल रेस्क्यूअर भी है और पूर्व में कई रेस्क्यू कार्यों में लोगों की जान भी बचा चुका है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

WhatsApp us