कोरोना से लड़ने के लिए विश्व के देश बना रहे अस्पताल, पाकिस्तान ने बनाया 80 एकड़ का कब्रिस्तान

कोरोना से लड़ने के लिए विश्व के देश बना रहे अस्पताल, पाकिस्तान ने बनाया 80 एकड़ का कब्रिस्तान

पाकिस्तान (महानाद) : जहां कोरोना से जूझ रहे विश्व के अनेक देश अस्पताल बना रहे हैं वहां पाकिस्तान की सिंध सरकार ने कराची में एक नया कब्रिस्तान बनाया है, जहां कोरोना वायरस के संक्रमण से मारे गए लोगों को दफनाया जाएगा।

बता दें एक अप्रैल तक सिंध प्रांत में इस वायरस की वजह से 9 लोग अब तक मारे जा चुके हैं। सरकार ने सुपर हाईवे और शहर के नेशनल हाईवे को जोड़नेवाले लिंक रोड पर कब्रगाह के लिए जमीन दी है, जो करीब 80 एकड़ में फैला है।

इस कब्रिस्तान में सिर्फ उन्हीं लोगों के शवों को दफनाया जाएगा, जिनकी मौत कोरोना वायरस से होगी। यहां पहले शव को दफना भी दिया गया है। पाकिस्तान के समाचार चैनल एआरवाई न्यूज ने यह जानकारी दी है।

वहीं, पाकिस्तान में कोरोना वायरस के मामले शुक्रवार (3 अप्रैल) को 2,400 का आंकड़ा पार कर गए। वहीं, अधिकारी इस संक्रामक रोग को फैलने से रोकने के लिए एक साथ मिलकर नमाज पढ़ने वाले लोगों की संख्या पांच तक सीमित करने की सरकार की अधिसूचना के बावजूद बड़ी संख्या में लोगों को एकत्रित करने से रोकने के लिए जूझ रहे हैं।

स्वास्थ्य मंत्रालय ने बताया कि शुक्रवार को पाकिस्तान में कोरोना वायरस के मामले बढ़कर 2,450 हो गए। देश में इस वैश्विक महामारी से 35 लोगों की मौत हो चुकी है, जबकि 126 लोग अब तक स्वस्थ हो गए हैं। देश के सबसे बड़े पंजाब प्रांत में 920 मामले, सिंध में 783, खैबर पख्तूनख्वा में 311, बलूचिस्तान में 169, गिलगित-बाल्टिस्तान में 190, इस्लामाबाद में 68 और पाकिस्तान के कब्जे वाले कश्मीर में नौ मामले सामने आए हैं।

मुल्क में एक हफ्ते से अधिक समय के आंशिक लॉकडाउन (बंद) के बावजूद मामलों की संख्या रोज बढ़ रही है। सरकार ने वायरस पर लगाम लगाने के लिए शुक्रवार की नमाज तथा अन्य धार्मिक सभा में भाग लेने की संख्या तीन से पांच तक सीमित करने की अधिसूचना जारी की थी। प्रांतीय और संघीय सरकारें भी लोगों को मस्जिदों से दूर रहने के लिए राजी करने की कोशिश कर रही है, लेकिन उन्हें इसमें ज्यादा कामयाबी नहीं मिल रही।

मीडिया से बातचीत में कराची के मेयर वसीम अख्तर ने बताया कि कोरोना से होने वाली मौत के बाद उनके अंतिम संस्कार के लिए अलग से पांच कब्रिस्तानों की व्यवस्था की गई है। इसमें मोहम्मद शाह, सुर्जनी, मोवच गोथ, कोरंगी, गुलशन-ए-जिया कब्रिस्तान शामिल है।

अंतिम संस्कार के लिए दिशा-निर्देश
कोरोना मृतकों के अंतिम संस्कार को लेकर सरकार ने गाइडलाइन जारी की है। सिंध सरकार के मुताबिक, अंतिम संस्कार में केवल परिजन और करीबी रिश्तेदार ही शामिल होंगे। शवों को कड़ी सुरक्षा में कब्रिस्तान में लाया जाएगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

WhatsApp us