हमें गिरफ्तारी का डर है, सुन लीजिए हमारी याचिका : सिब्बल

नई दिल्ली (महानाद) : कोर्ट ने बुधवार को कांग्रेस के वरिष्‍ठ नेता और पूर्व वित्‍त मंत्री पी चिदंबरम की अग्रिम याचिका खारिज कर दी. चिदंबरम के वकीलों ने सुबह 10:30 बजे जस्टिस एनवी रमन्ना की बेंच से जल्‍द सुनवाई की मांग की तो, जस्टिस रमन्ना की बेंच ने याचिका पर सुनवाई से इनकार कर दिया और इस याचिका को चीफ जस्टिस रंजन गोगोई के पास भेज दिया.

चिंदबरम के वकील कपिल सिब्‍बल की ओर से न्‍यायालय से आग्रह किया गया कि उनकी अपील को जल्द सुन लिया जाए, लेकिन इसका सॉलिसिटर जनरल की तरफ से यह कहते हुए विरोध किया गया कि यह मामला गंभीर है. इस पर कपिल सिब्बल ने कहा कि हमें गिरफ्तारी का डर है. हमारी याचिका सुन लीजिए. जस्टिस रमन्ना ने कहा कि मुख्य न्यायाधीश तय करेंगे कि कब और कौन सुनवाई करेगा.

इस पर सिब्बल ने कहा कि हमें दिल्‍ली हाईकोर्ट ने भी अपील का समय नहीं दिया है, लिहाजा, गिरफ्तारी से फिलहाल राहत मिले.

चिदंबरम की तरफ से कहा गया कि वो राज्यसभा सदस्य हैं, उनके भागने की कोई आशंका नहीं है. उन्हें हिरासत में लेकर पूछताछ करने की कोई जरूरत नहीं है. उन्हें न्याय के हित में अंतरिम सरंक्षण दिया जाए.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

रेप का मामला SSP के पास पहुंचा तो सिपाही ने युवती से कर ली शादी     |     छात्रा की हत्या कर ऑटो चालक ने खुद को मारी गोली     |     घुसपैठियों के खिलाफ राज ठाकरे ने निकाला मेगा-मोर्चा, कहा – पाकिस्तानी और बांग्लादेशियों को भगाना ही चाहिए     |     अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के कार्यक्रम का नाम बदलकर किया गया ‘नमस्ते ट्रंप’, जारी किए गए नए पोस्टर     |     जसपुर में शिवरात्रि पर न.पा./पुलिस से व्यवस्था दुरूस्त करने की मांग     |     रोमा जैन को यूथ कांग्रेस कार्यकर्ता व वोटरों का मिल रहा है व्यापक अटूट सहयोग     |     ट्रेन में पत्नी व बेटी के लिए बैठने की जगह मांगी तो यात्रियों ने शख्स को पीट-पीटकर मार डाला     |     बड़े हादसे के इंतजार में विद्युत विभाग, कभी भी आबादी के ऊपर गिर सकते है विद्युत पोल     |     मोदी-राहुल एक-दूसरे पर अपराधियों को टिकट देने पर सवाल खड़े करते हैं, लेकिन 5 साल में भाजपा और कांग्रेस ने 30-30% टिकट दागियों को बांटे     |     प्रेम के आड़े आ रहा था इसलिये कर दी प्रेमिका के भाई की हत्या     |    

WhatsApp us