कर्नल दिनेश पठानिया सहित 5 सैनिकों की आजीवन कारावास की सजा निलंबित, मिली जमानत

कश्मीर में फर्जी मुठभेड़ के लगे थे आरोप

नई दिल्ली (महानाद) : बहुचर्चित माछिल फर्जी मुठभेड़ मामले में सजा पाये 5 सेना के जवानों की आजीवन कारावास की सजा निलंबित कर दी गई। साथ ही सजा भुगत रहे जवानों को जमानत पर रिहा कर दिया गया।

जम्मू-कश्मीर के माछिल में 29 और 30 अप्रैल 2010 की दरमियानी रात में हुए फर्जी मुठभेड़ में 3 कश्मीरियों की हत्या कर दी गई थी। इस मामले में कोर्ट ने 2 सेना के अधिकारियों और 3 जवानों को दोषी पाया था। इसके बाद देशभर में इसकी चर्चा हुई थी।

सेना की गोलीबारी में मारे गये लोगों की पहचान बारामूला जिले के नदीहाल इलाके के रहने वाले मोहम्मद शाफी, शहजाद अहमद और रियाज अहमद के रूप में की गई थी। उन्हें कथित तौर पर सीमावर्ती इलाके में ले जाकर गोली मारी गई। सेना का कहना था की सभी पाकिस्तानी थे।

एक अधिकारी ने बताया, ‘सैन्य ट्रिब्यूनल ने कर्नल दिनेश पठानिया, कैप्टन उपेंद्र, हवलदार देवेंद्र कुमार, लांस नायक लखमी और लांस नायक अरुण कुमार का आजीवन कारावास निलंबित कर दिया गया और उन्हें जमानत दे दी गई है।’

ट्रिब्यूनल कोर्ट के फैसले के बाद कर्नल दिनेश पठानिया के वकील अमन लेखी ने कहा, ‘ट्रिब्यूनल का बड़ा फैसला है। मैं खुश हूं।’

सेना के सूत्रों ने कहा कि ट्रिब्यूनल ने केवल आजीवन कारावस को निलंबित किया है। अंतिम फैसला जल्द आएगा। पांच जवानों को 2014 में आजीवन कारावास की सजा सुनाई गई थी। सभी ने बाद में ट्रिब्यूनल में सजा को चुनौती दी थी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

राफेल पर पुनर्विचार याचिका खारिज, राहुल को मिली माफी     |     सरकारी जमीन पर हो रहा रिसॉर्ट का अवैध निर्माण     |     ग्राहक बुलाने के विवाद में सर पर रॉड मार कर की हत्या     |     एसपी विपिन टाडा ने किया गंगा मां का धन्यवाद     |     राज्यपाल बेबी रानी मौर्य ने टेका नानकमत्ता गुरुद्वारे में मत्था     |     रोडवेज बसों से हो रहा डीजल चोरी, फोटो हुआ वायरल     |     ढूंढे नहीं मिल रहे नोटबन्दी में करोड़पति बने 40 लोग     |     शिवसेना की एक ही रट, मुख्यमंत्री हमारा ही होगा     |     तभी समर्थन इंदिरा जी ने शिवसेना का पाया था : अनिल सारस्वत     |     ज्वालानगर क्षेत्र में आज पेयजल आपूर्ति रहेगी ठप     |    

WhatsApp us