अभी मुश्किल है महबूबा-उमर की रिहाई

नई दिल्ली (महानाद) : जम्मू-कश्मीर से अनुच्छेद 370 हटाने के फैसले के पहले और बाद में नजरबंद और गिरफ्तार किए गए नेता फिलहाल बाहर नहीं आ रहे हैं। नजरबंद किए गए नेताओं में पूर्व मुख्यमंत्री नेशनल कांफ्रेंस के उमर अब्दुल्ला और पीडीपी की महबूबा मुफ्ती भी शामिल हैं। अगले कुछ दिन तक इनके पुलिस की हिरासत में ही रहने की संभावना है।

एक वरिष्ठ अधिकारी ने स्पष्ट किया है कि एहतियाती तौर पर हिरासत में लिए गए नेताओं की रिहाई के बारे में कोई भी फैसला स्थानीय प्रशासन की राय और वहां के हालात पर निर्भर करेगा। अधिकारी ने कहा कि यह कहना बहुत कठिन है कि हिरासत में लिए गए नेताओं को कब रिहा किया जाएगा। उन्होंने संकेत दिए कि इस मामले में किसी भी तरह की जल्दबाजी नहीं की जा रही है।

उमर अब्दुल्ला और महबूबा मुफ्ती को श्रीनगर में अलग-अलग गेस्ट हाउस में हिरासत में रखा गया है, जबकि पूर्व मुख्यमंत्री डॉ. फारूक अब्दुल्ला अपने घर में नजरबंद हैं। दूसरे राजनीतिक दलों के नेताओं को भी गेस्ट हाउस में नजरबंद किया गया है।

हालांकि राज्य प्रशासन की ओर से 5 अगस्त के बाद से हिरासत में लिए जाने वाले नेताओं की संख्या नहीं बताई गई है। अनुमान के आधार पर इनकी संख्या दो हजार से अधिक बताई जा रही है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

दिल्ली में हुई हिंसा के बाद ऊधम सिंह नगर में अलर्ट     |     दिल्ली हिंसा के बाद अमरोहा में हाई अलर्ट, डीएम व एसपी ने मार्च निकालकर लोगों से शांति बनोय रखने की अपील     |     बीजेपी नेताओं के भड़काऊ भाषण ने फैलाई नफरत, हिंसा के लिए गृह मंत्री अमित शाह हैं जिम्मेदार, दें इस्तीफा: सोनिया गांधी     |     राकेश कुमार शुक्ला ने टास्क फोर्स के सदस्यों को दी ग्राम पंचायत में भूमिका व कर्तव्यों की जानकारी     |     डीआईजी ने गरीब, असहाय वरिष्ठ नागरिकों को खिलाया हलवा पूरी, बांटा राशन     |     नॉर्थ ईस्ट दिल्ली में लगा कर्फ्यू, उपद्रवियों को देखते ही गोली मारने का आदेश, खाली करवाई गई जाफराबाद की सड़क     |     भाजपा प्रदेश अध्यक्ष बंशीधर भगत ने घोषित की अपनी कार्यसमिति, खिलेन्द्र चौधरी बने प्रदेश उपाध्यक्ष तो आशीष गुप्ता बने प्रदेश मंत्री     |     यूपी के बदमाशों को पकड़कर कोतवाली लाये जसपुर के बहादुर युवक     |     मंदिर, मस्जिद, गुरुद्वारा, चर्च से लाउड स्पीकर हटाने को कोतवाल ने जारी किए नोटिस     |     बिग ब्रेकिंग : नई शिक्षानीति हुई फाइनल, 1 मार्च से होगी लागू     |    

WhatsApp us