नहीं रहे देश के पूर्व वित्त मंत्री अरुण जेटली

नई दिल्ली (महानाद) : देश के पूर्व वित्त मंत्री अरुण जेटली का निधन हो गया। उन्होंने नई दिल्ली के एम्स में 12ः07 मिनट पर आखिरी सांस ली। वे विगत 9 अगस्त से दिल्ली के एम्स अस्पताल में भर्ती थे और उनकी हालत गंभीर बनी हुई थी। कुछ साल पहले ही उनकी बैरियाट्रिक सर्जरी की गई थी। जेटली के निधन होने से भाजपा ने अपना एक और कद्दावर नेता खो दिया। इससे पूर्व भारत के पूर्व रक्षा मंत्री मनोहर पर्रिकर एवं विदेश मंत्री रहीं सुषमा स्वराज का भी निधन हो गया था।

आपको बता दें कि अरुण जेटली का जन्म महाराज किशन जेटली और रतन प्रभा जेटली के घर में हुआ। उनके पिता एक वकील हैं। उन्होंने अपनी विद्यालयी शिक्षा सेंट जेवियर्स स्कूल, नई दिल्ली से 1957-69 में पूर्ण की। उन्होंने 1973 में श्री राम काॅलेज आॅफ काॅमर्स, नई दिल्ली से काॅमर्स में स्नातक की शिक्षा प्राप्त की थी। उन्होंने 1977 में दिल्ली विश्व विद्यालय के विधि संकाय से विधि की डिग्री प्राप्त की। छात्र के रूप में अपने कैरियर के दौरान, उन्होंने अकादमिक और पाठ्यक्रम के अतिरिक्त गतिविधियों दोनों में उत्कृष्ट प्रदर्शन के विभिन्न सम्मानों को प्राप्त किया हैं। वे 1974 में दिल्ली विश्वविद्यालय के छात्र संगठन के अध्यक्ष भी रहे।

अरुण जेटली का विवाह 24 मई 1982 को संगीता जेटली से हुआ था। उनके दो बच्चे, पुत्र रोहन, और पुत्री सोनाली हैं।

1999 में भाजपा की वाजपेयी सरकार के नेतृत्व में राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन के सत्ता में आने के बाद उन्हें 13 अक्टूबर 1999 को सूचना और प्रसारण राज्य मंत्री ;स्वतंत्र प्रभारद्ध नियुक्त किया गया। उन्हें विनिवेश राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) भी नियुक्त किया गया। विश्व व्यापार संगठन के शासन के तहत विनिवेश की नीति को प्रभावी करने के लिए पहली बार एक नया मंत्रालय बनाया गया। उन्होंने 23 जुलाई 2000 को कानून, न्याय और कंपनी मामलों के केंद्रीय कैबिनेट मंत्री के रूप में राम जेठमलानी के इस्तीफे के बाद कानून, न्याय और कंपनी मामलों के मंत्रालय का अतिरिक्त प्रभार संभाला।

उन्हें नवम्बर 2000 में एक कैबिनेट मंत्री के रूप में पदोन्नत किया गया था और एक साथ कानून, न्याय और कंपनी मामलों और जहाजरानी मंत्री बनाया गया था। भूतल परिवहन मंत्रालय के विभाजन के बाद वह नौवहन मंत्री थे। उन्होंने 1 जुलाई 2001 से केंद्रीय मंत्री, न्याय और कंपनी मामलों के मंत्री के रूप में 1 जुलाई 2002 को नौवहन के कार्यालय को भाजपा और उसके राष्ट्रीय प्रवक्ता के रूप में शामिल किया। उन्होंने जनवरी 2003 तक इस क्षमता में काम किया। उन्होंने 29 जनवरी 2003 को केंद्रीय मंत्रिमंडल को वाणिज्य और उद्योग और कानून और न्याय मंत्री के रूप में फिर से नियुक्त किया।

26 मई 2014 को, जेटली को नवनिर्वाचित प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा वित्त मंत्री के रूप में चुना गया। भारत के वित्त मंत्री के रूप में उनके कार्यकाल के दौरान, सरकार ने 9 नवंबर, 2016 से भ्रष्टाचार, काले धन, नकली मुद्रा और आतंकवाद पर अंकुश लगाने के इरादे से 500 और 1000 रुपये के नोटों का विमुद्रीकरण किया। 20 जून, 2017 को उन्होंने पुष्टि की कि जीएसटी रोलआउट अच्छी तरह से और सही मायने में ट्रैक पर है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

राफेल पर पुनर्विचार याचिका खारिज, राहुल को मिली माफी     |     सरकारी जमीन पर हो रहा रिसॉर्ट का अवैध निर्माण     |     ग्राहक बुलाने के विवाद में सर पर रॉड मार कर की हत्या     |     एसपी विपिन टाडा ने किया गंगा मां का धन्यवाद     |     राज्यपाल बेबी रानी मौर्य ने टेका नानकमत्ता गुरुद्वारे में मत्था     |     रोडवेज बसों से हो रहा डीजल चोरी, फोटो हुआ वायरल     |     ढूंढे नहीं मिल रहे नोटबन्दी में करोड़पति बने 40 लोग     |     शिवसेना की एक ही रट, मुख्यमंत्री हमारा ही होगा     |     तभी समर्थन इंदिरा जी ने शिवसेना का पाया था : अनिल सारस्वत     |     ज्वालानगर क्षेत्र में आज पेयजल आपूर्ति रहेगी ठप     |    

WhatsApp us