उद्यमी-लेखक सपना खंडेलवाल की किताब ने पैदा किया एक जादू – अपने अंदर की शक्ति को पहचानिए

  • फेसबुक कम्युनिटीज की पहुंच और शक्ति पर दुनिया की पहली किताब
  • जीवन को नया मोड़ देने में सहायक सफलता की 11 शक्तिशाली कहानियां!
  • 11 अद्भुत फेसबुक ग्रुप जो दुनिया बदल रहे हैं!
  • 11 असाधारण एफबी ग्रुप संस्थापक जो सामूहिकता की शक्ति में विश्वास रखते थे और जिन्होंने सशक्त कम्युनिटी बनायीं।

नई दिल्ली (महानाद) : भारत के 40 प्रमुख फेसबुक ग्रुप्स के संस्थापकों के अक्टूबर 2019 में दिल्ली में संपन्न एक
सम्मेलन से प्रेरित होकर सपना खंडेलवाल ने स्लीपवैल फाउंडेशन के सहयोग से एक किताब प्रकाशित की। उस सम्मेलन में सपना भी एक ग्रुप संचालक के तौर पर आमंत्रित की गयी थीं।

किताब के लांच कार्यक्रम में स्लीपवैल फाउंडेशन की चेयरपर्सन, नीता गौतम ने कहा कि “यह किताब हमारे फाउंडेशन के सिद्धांत से मेल खाती है कि लोगों की भीतरी शक्ति को उजागर करके समाज का विकास संभव है।”।

किताब का विमोचन समारोह 13 फरवरी को इंडिया इंटरनेशनल सेंटर में आयोजित हुआ। कार्यक्रम में 200 से अधिक लोगों ने भाग लिया, जिसमें समाज के अग्रणी नागरिक और साहित्यकार शामिल हुए। दिल्ली लिटरेचर फेस्टिवल की संस्थापक रतन कौल कार्यक्रम की
मुख्य अतिथि थीं। उन्होंने कहा, “मैं बेसब्री से इंतजार करूंगी कि इस किताब का हिंदी व अन्य स्थानीय भाषाओं में भी अनुवाद हो।”

पुस्तक का विमोचन विमेनोवेटर की संस्थापक तृप्ति सिंघल सोमानी ने किया। उनकी संस्था देश भर की इनोवेटिव महिलाओं का मार्गदर्शन करती है। उन्होंने कहा, “हम सभी को समाज के उत्थान के लिए, विशेष रूप से महिला उद्यमियों का समर्थन करके, प्रयास करते रहने की
आवश्यकता है।”

कार्यक्रम में ऐसे कई लोग भी उपस्थित थे, जिनकी कहानियों को पुस्तक में स्थान मिला है। उन्होंने भी अपनी सफलता के रहस्यों को सबके सामने साझा किया।

क्वीन इन दि मेकिंग की डॉ. शिवांगी मलेटिया ने कहा, “महिलाओं के लिए यह महत्वपूर्ण है कि यदि वे अपनी शक्ति को पहचानना चाहती हैं तो स्वयं के साथ अपने रिश्ते को प्राथमिकता दें।”

कार्यक्रम में भाग लेने के लिए फ्रांस से यहां पहुंची, फिटनेस 2 फ्लेश की रिंकू शाह ने कहा, “सिर्फ वजन घटाने पर नहीं, हमारा ध्यान फिटनेस और स्वास्थ्य पर होना महत्वपूर्ण है।”

वीविमेन की संस्थापक उद्यमी स्वाति जैन ने कहा, “महिलाओं को सबसे अच्छी मदद दूसरी महिलाओं से ही मिल सकती है।”

विमेन ऑन वैल्थ की प्रियंका भाटिया ने कहा कि “डब्ल्यूईएफ 2017 के महिलाओं के आर्थिक योगदान संबंधी सर्वेक्षण में 144 देशों की सूची में भारत 139 वें स्थान पर है! ”

ग्रेट शेफ्स ऑफ दि वर्ल्ड के शेफ अरुण चंदा ने फूड ब्लॉगर्स के बढ़ते दबदबे की सराहना करते हुए कहा,
“वे जरूरी एक्सपोजर प्रदान करते हैं और भोजन उद्योग का महत्व बढ़ा रहे हैं।”

रिइमेजिन ट्रेवलिंग की श्रद्धा गुलाटी ने खुलासा किया कि,” यात्राओं से नये-नये अनुभव होते हैं, जिससे दिमाग और दिल का विस्तार होता है।”

लॉन्च ईवेंट का संचालन माधवी आडवाणी ने किया। कार्यक्रम में समकालीन समाज के उत्थान में सोशल मीडिया की भूमिका पर एक चर्चा की गयी। आयोजक वंदना खंडेलवाल और कृति मेथी  ने दर्शकों के साथ संवाद रखते हुए कार्यक्रम में जान डाल दी।

लेखक सपना खंडेलवाल ने अपनी वाकपटुता से श्रोताओं को मंत्रमुग्ध कर दिया। उन्होंने कहा, “हर किसी के लिए यह संभव है कि वे जो चाहें हासिल कर सकते हैं, बशर्ते वे अपनी विचार प्रक्रिया को विकसित करते रहें, अपनी परिस्थितियों को स्वीकार करें और बिना कमियां निकाले या शिकायत किये अपना काम करते रहें।”

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

प्रेम प्रसंग में कहासुनी में युवक ने अपने को गोली मारकर कर ली आत्महत्या     |     बहुचर्चित ‘सिमरन’ हत्याकांड का वांछित अभियुक्त गिरफ्तार : कोतवाल     |     रामनगर पुलिस की सक्रियता के चलते टला बड़ा हादसा, पुलिस की घेराबंदी से घबराये गाड़ी छोड़ भागे हथियारबंद बदमाश     |     नसबंदी अभियान: मध्य प्रदेश की कमलनाथ सरकार चली इंदिरा की राह?     |     धार्मिक संस्थानों पर लगे लाउडस्पीकरों की आवाज कम करने को लेकर बैठक     |     प्रेमिका से मिलने गए छात्र की 20-25 लड़कों ने चाकू से गोद कर हत्या     |     दिल्ली से देहरादून के लिए चलेगी तेजस ट्रेन     |     पाकिस्तान पहुंच गए शत्रुघ्न सिन्हा     |     नागरिकता संशोधन अधिनियम (सीएए) भारत का ‘आंतरिक मामला’ : शेख हसीना     |     देश के हर घर में चर्चा का विषय बने जूली और मटुकनाथ अब नही है एक साथ, मरणासन्न हालत में हैं जूली, मटुकनाथ नहीं कर रहे कोई मदद     |    

WhatsApp us