काशीपुर में धूमधाम से निकला मां मनसा देवी का डोला, बिना झांकियों के भी भव्यता में नहीं आई कोई कमी

काशीपुर में धूमधाम से निकला मां मनसा देवी का डोला, बिना झांकियों के भी भव्यता में नहीं आई कोई कमी

विकास अग्रवाल
काशीपुर (महानाद) : मां मनसा देवी का डोला आज बड़ी धूमधाम से निकला।

शोभायात्रा प्रमुख विकास शर्मा खुट्टू ने बताया कि आज अष्टमी के दिन मां मनसा देवी का डोला निकाल कर 46 वर्षों से चली आ रही परंपरा को कायम रखा गया। कोरोना संकट के कारण लेगे प्रतिबंधों के कारण उत्तर भारत की सुप्रसिद्ध मां मनसा देवी की शोभायात्रा अपने मूल स्वरूप में नहीं निकल पाई। बता दें कि शोभायात्रा में मां मंसा देवी के डोले के आगे लगभग 110 झांकियां, 10 बैण्ड, अखाड़े, स्वचालित झांकियां, पैदल झांकियां, देश भक्ति की झांकियां हजारों भक्तजनों के साथ निकलती है। इस शोभायात्रा को देखने के लिए दूर-दूर के जनपदों से हजारों की संख्या में श्रद्धालु काशीपुर आते हैं। डोले के साथ ही 10,000 माता के भक्त चलते हैं।

विदित हो कि कोरोना संकट को देखते हुए प्रशासन द्वारा सीमित श्रद्धालुओं के साथ मां मनसा देवी के डोले को निकालने की अनुमति दी गई थी। मां मनसा देवी शिव मंदिर समिति ने कोविड-19 की गाइडलाइन का पूर्णतया पालन करते हुए सभी माता के भक्तों को फेस मास्क, सैनेटाइजर तथा नैपकीन दिये थे। सभी भक्तों ने पूर्णतः अनुशासन के साथ नियमों का पालन करते हुए मां मनसा का डोला निकाला।

मां मनसा देवी का डोला गीता भवन से शुरु होकर किला चैराहा, मेन बाजार, महाराणा प्रताप चौक, रामनगर रोड होते हुए मां चामुंडा देवी मंदिर पहुंचा जहां पूजन, आरती के पश्चात गिरीताल, चीमा चैराहा, रतन रोड होते हुए वापिस अपने मंदिर पहुंचकर समाप्त हुआ।

बता दें कि बिना झांकियों, बैंड, डीजे आदि के निकले मां मनसा देवी के डोले की भव्यता में कोई कमी नहीं आई। जगह-जगह खड़े श्रद्धालुओं ने दूर से मां के डोले पर फूलों की बारिश की। बस इस बार कोरोना के चलते श्रद्धालु माता के प्रसाद से वंचित रह गये।

विदित हो कि आज से 46 वर्ष पूर्व स्व. रमेश चंद्र शर्मा ‘खुट्टू मास्टर’ ने शुरु की थी। तब माता के भक्त मय्या को अपने सिर पर रखकर चामुंडा मंदिर ले जाते थे। खुट्टू मास्टर के प्रयासों से ही यह यात्रा धीरे-धीरे उत्तर भारत की सबसे बड़ी शोभायात्रा बन चुकी है। 2009 में उनकी मृत्यु के पश्चात यात्रा की जिम्मेदारी उनके सुपुत्र विकास शर्मा ‘खुट्टू’ उठाते चले आ रहे हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

WhatsApp us