राजस्थान की सियासत: पायलट मानेसर तो गहलोत ने जैसलमेर में डाला डेरा

अक्षित पत्रिया
जयपुर (महानाद) : राजस्थान की राजनीति में एकाएक घमासान शुरू हो गया है और जादूगर गहलोत ने अचानक निर्णय लेकर विधायकों को तीन चार्टर प्लेन द्वारा जयपुर से जैसलमेर भेज दिया। इस निर्णय से यह कयास लगाया जा रहा है कि कहीं गहलोत के मन में कुछ गडबड होने का अंदेशा तो नहीं है और उसी रणनीति के तहत इन विधायकांे को जयपुर से जैसलमेर ले जाया गया है।

देखा जाये तो कल वैभव गहलोत और सीपी जोशी की बातचीत का विडियो आने के बाद ही आनन फानन में संभवतया यह कदम उठाया गया है। ऐसी आम चर्चाएं है। गहलोत को भी शायद अंदेशा होगा कि जिस तरह मानेसर में राजस्थान की एसओजी टीम गई हुई है उसी तरह जयपुर में भी कहीं केन्द्र छापामारी नहीं करदे। क्योंकि 2- 3 जगहों पर ऐसा हो चुका है। एक जगह तो गहलोत के भाई यहां ही रेड हो गई।

वहीं, विधानसभा का सत्र शुरू होने की घोषणा के बाद गहलोत ने भी बोला कि ‘आसमान छू रहा है विधायकों का भाव….’ इस पर गौर किया जाये तो लगेगा कि जैसे टीवी सीरियल सीआईडी में एसीपी के बोल …..कुछ तो गडबड है… वाली हकीकत दिखाई देगी? इसी तरह ईडी , इन्कम टैक्स की आड़ में छापामारी हो जाये तो आगे कुछ भी हो सकने की स्थिति में संभवतया जादूगर ने यह कदम सोची, समझी रणनीति के तहत उठाया हो।

इस सियासी राजनीति में देखने पर ऐसा लगने लगा कि …. देशभक्ति वाली राजनीति बदल कर अब मोहभक्ति वाली राजनीति की राह पर जाती दिखाई दे रही है। आज चल रही राजनीति में एक दूसरे पर आरोप प्रत्यारोप लगते जा रहे हैं, इससे लगने लगा कि बड़े लोग भी बड़े बोल किस ढंग से बोल रहे हैं और अपनी पोल खुद ही खोल रहे हंै। इस आरोप – प्रत्यारोप की चर्चाओं से तो कांग्रेस का एक खेमा सरकार गिराने में तो दूसरा बचाने में लगा है और आरोप भाजपा पर भी लग रहे हैं।

अजब और गजब की राजनीति का मेल तथा पायलट और गहलोत का खेल आगे किसको करेगा फेल, वहीं छा गई भाजपा कि क्या मंगाया राफेल की चर्चा के बीच अगस्त माह में क्या निर्णायक भूमिका सामने आयेगी इस पर कुछ भी कहना मुश्किल है। लेकिन कोरोना के संक्रमण के चलते अब (कोरोना) रोना कौन रोयेगा अगर सब कुछ निर्णय 14 अगस्त को हो जायेगा तो फिर 15 अगस्त को पायलट या तीसरा या फिर जादूगर मे से, झंडा कौन फहरायेगा इसकी तो आगे राम ही जाने…

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

WhatsApp us