व्यापार मंडल ने की लोन की पूरे साल की किश्तें व ब्याज माफी की मांग

विकास अग्रवाल
काशीपुर (महानाद) : प्रांतीय उद्योग व्यापार मंडल ने भाजपा विधायक हरभजन सिंह चीमा के माध्यम से उत्तराखंड के मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत को पत्र भेजकर व्यापारियों को राहत प्रदान करने की मांग की है।

मुख्यमंत्री को लिखे पत्र में व्यापार मंडल ने बताया कि व्यापार मंडल एक सर्वव्यापी संगठन है जिसकी 362 इकाइयां उत्तराखंड में कार्यरत हैं। पत्रमें कहा गया है कि प्रदेश में सप्ताह में दो दिन के लाॅकडाउन द्वारा कोरोना संक्रमण को रोका जाना संभव नहीं है जब बंद केवल व्यापारिक प्रतिष्ठानों तक ही सीमित है। इसलिए इस लाॅकडाउन को तत्काल हटाया जाये।

व्यापार मंडल ने कहा कि कोरोना संक्रमण काल के चार माह के लाॅकडाउन में लघु उद्योग, पर्यटन, तीर्थाटन, होटल, रेस्टोरेंट, इलेक्ट्रोनिक, इलेक्ट्रिक, आॅटोमाबाइल, ट्रांसपोर्ट, ज्वैलरी, रियल एस्टेट, निर्माण, रेडीमेड, कपड़ा, शादी विवाह से जुड़े बैंकेट हाॅल, अैंट व्यवसाय, केटरिंग आदि की बंदी ने व्यापारियों की कमर तोड़ दी है। सभी व्यापार चैपट हो गये हैं। नोटबंदी के बाद से व्यापार पहले ही मंदी की चपेट में थे परंतु कोरोना संक्रमण ने रही सही कसर भी पूरी कर दी।

व्यापार मंडल ने मुख्यमंत्री से सभी व्यापारियों को निम्न छूट देने की मांग की है –
– बैंक ऋणों को वर्ष 2020 के लिए पूर्ण ब्याज मुक्त किया जाये।
– बैंक की मासिक किश्त को वर्ष 2020 के लिए स्थगित किया जाये।
– लघु उद्योग व छोटे व्यापारियों को पुर्नस्थापित करने के लिए बैंकों द्वारा 10 लाख रुपये का आसान व ब्याज मुक्त ऋण उपलब्ध कराया जाए।
– प्रदेश के पर्यटन एवं तीर्थाटन उद्योग के लिए राहत पैकेज की घोषणा की जाये।
– बिजली-पानी के व्यवसायिक बिलों में छूट दी जाये।
– प्रत्यक्ष व अप्रत्यक्ष करों में विशेष छूट दी जाये।
– केंद्र व रज्ञज्य सरकार के लाइसेंसिंग शुल्क तथा तीर्थाटन से जुड़े व्यवसायिक कर व उनसे संबंधित वाहनों के विभिन्न कर/बीमा शुल्क को वर्ष 2022 तक वैध माना जाये।
– व्यापारियांे को कोरोना वाॅरियर्स का दर्जा देकर उनका 50 लाख का निःशुल्क बीमा किया जाये।

विधायक हरभजन सिंह चीम को पत्र देने वालों में व्यापार मंडल अध्यक्ष प्रभात साहनी, उपाध्यक्ष जतिन नरूला, महामंत्री अमन बाली तथा विक्टर सेठी शामिल थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

WhatsApp us