देश के युवा सीएम हैं धामी, वह राजनीति में जाएंगे बहुत आगे: ब्रजेश पाठक

देश के युवा सीएम हैं धामी, वह राजनीति में जाएंगे बहुत आगे: ब्रजेश पाठक

लखनऊ (महानाद) : मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी बुधवार देर सायं लखनऊ विश्वविद्यालय पहुंचे। लखनऊ विश्वविद्यालय के एल्यूमिनी द्वारा विश्वविद्यालय परिसर स्थित मालवीय सभागार में मुख्यमंत्री का सम्मान किया गया। एल्युमिनी की निदेशक निशी पांडेय ने बुके देकर मुख्यमंत्री धामी का स्वागत किया।

इस अवसर पर मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने कहा कि लखनऊ विश्वविद्यालय के मालवीय सभागार में सम्मेलन कार्यक्रम में आना उनके लिए सौभाग्य की बात है। यहां आकर गुरुजनों का आशीर्वाद मिला। साथियों का स्नेह मिला तथा स्वागत से अभिभूत हैं। उनकी यहां आने की बहुत इच्छा थी लेकिन नहीं आ सका। शायद भगवान की इच्छा रही कि मैं मुख्य सेवक होकर आपके बीच पहुंचू। बिना भगवान की इच्छा के एक पत्ता भी नहीं हिलता।

मेष से लेकर मीन राशि तक के जितने भी संगी साथी और नौजवान वहां मौजूद थे सबका उन्होंने आभार जताया। उन्होंने कहा कि उन्हें अपने गांव से भी बहुत लगाव है। जब भी मौका मिलता है गांव जाता हूं। लेकिन अब व्यस्तता इतनी हो गयी कि ज्यादा समय नहीं मिल पाता। उन्होंने मध्य प्रदेश के सीएम का उल्लेख करते हुए कहा कि कई साल पहले जब वे उनसे मिलने गये बहुत आत्मीयता से मिले। गाड़ी में बैठाकर अपने साथ ले गए। मैंने उनसे कहा कि आप पहले जैसे हैं बदले नहीं। उनसे उन्हें यह सीख मिली कि व्यक्ति को अपने व्यवहार में बदलाव नहीं लाना चाहिए।

उन्होंने कहा कि प्रदेश में मंत्रिमंडल विस्तार में उन्हें मंत्री बनने की उम्मीद थी लेकिन नहीं बन सका। तीरथ सिंह रावत मंत्रिमंडल का भी उल्लेख किया कि तब भी कुछ नहीं हुआ। लेकिन अचानक समय ने करवट ली। तीरथ सिंह रावत की जगह सीएम बनने की विधानमंडल दल की बैठक में प्रभारी बनाए गए नरेन्द्र सिंह तोमर की उपस्थिति में विधायक दल की बैठक में मेरा नाम तय कर दिया गया। उन्होंने बताया कि वे संकोची स्वाभाव के हैं, कार्यक्रमों में भी पीछे बैठते रहे हैं।

मुख्यमंत्री धामी ने कहा यह भाजपा में ही संभव है जो अपने कार्यकर्ताओं की क्षमता को जानती है जिम्मेदारी देती है आगे बढ़ाती है। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के मार्गदर्शन में उत्तराखंड में देवस्थानों के कायाकल्प की योजनाएं चल रही हैं। दुर्गम स्थानों में भी रेल आवागमन की सुविधा का प्रबंध किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि वे सैनिक के बेटे हैं, उनके परिवारों के कष्टों-दुखों को जानते हैं। पहले सेना के परिवार वालों को युद्ध में तमाम शंकाए रहती थीं। लेकिन प्रधानमंत्री मोदी ने सेना के परिवार वालों का संशय खत्म किया। जवानों का सम्मान बढ़ाया। इस संबध में उन्होंने गलवां घाटी की घटना का भी उल्लेख किया। मुख्यमंत्री ने पुरानी यादों को भी साझा किया। बसंती चाची की चाय और पप्पू ढ़ाबे के खाने को याद किया। उन्होंने युवाओं से कहा अच्छा कार्य करने को कहा। उन्होंने कहा कि साधारण लोग ही असाधारण कार्य करते हैं।

इस अवसर पर उत्तर प्रदेश के उप मुख्यमंत्री डॉ. दिनेश शर्मा ने कहा कि यह विशेष अवसर है जब हम अपने बीच के सहयोगी का स्वागत कर रहे हैं। लखनऊ विश्वविद्यालय में धामी ने छात्र जीवन बिताया। अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद में दायित्वों का बेहतर निर्वहन किया। धामी ने एक आदर्श स्थापित किया कि संघर्ष, संस्कार और सहनशीलता से कैसे इस ऊंचाई तक पहुंचा जा सकता है।

इस अवसर पर लखनऊ विश्वविद्यालय के पूर्व अध्यक्ष दयाशंकर सिंह ने कहा कि छात्र जीवन में लखनऊ विश्वविद्यालय में धामी के साथ मिलकर संघर्ष किया। यह हमारे लिए सौभाग्य का विषय है कि वह अब उत्तराखंड के मुख्यमंत्री हैं। धामी आज सीएम हैं लेकिन वह इस पद पर रहते हुए भी पहले की तरह की सरलता सहजता बनाए हैं। दूरदर्शी धामी राजनीति के सर्वाेच्च ऊंचाई तक पहुंचेंगे।

कार्यक्रम में यूपी सरकार के विधि एवं न्याय मंत्री ब्रजेश पाठक ने कहा कि धामी के सीएम बनने की जानकारी से लखनऊ विश्वविद्यालय और लखनऊ में उत्साह उत्तराखंड से कम नहीं था। उन्होंने कहा कि धामी देश के युवा सीएम हैं। वह राजनीति में बहुत आगे जाएंगे।

वहीँ मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने लखनऊ में उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से शिष्टाचार भेंट की व उत्तराखण्ड से जुड़े विभिन्न विषयों पर चर्चा की। इस अवसर पर कैबिनेट मंत्री श्री यतीश्वरानंद भी उपस्थित थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

WhatsApp us