स्वामी विवेकानंद : आज भी प्रासंगिक

मीनाक्षी  बिष्ट

धानाचूली (महानाद) : ‘राष्ट्रीय  युवा दिवस ‘ यह युवा दिवस जिस महापुरुष  की जयंती  के  रूप  में  राष्ट्र के युवाओं  को समर्पित कर दिया गया क्या आज के युवा उनके विचारों  लेखों  अथवा  उनकी  शिक्षाओं  के विषय  में  पढ़ते  हैं. ? शायद  नहीं  अथवा  बहुत  कम जिन्हेँ भारतीय  युवाओं के अनुपात  में  नगण्य  माना  जा सकता है ।

सवाल  उठता  है  क्या ग़लती  केवल  युवाओं की है  जो उन्हें  जानते  नहीं या उनके  विचारो को पढ़ते  नहीं ? इसका  उत्तर  भी  शायद  नहीं  ही होगा क्यूंकि  हमें  कभी  इतना  बताया  ही नहीं जाता , हमारे  स्कूल  पाठ्यक्रमों  में  तो बस उनकी  संक्षिप्त  जीवनी ही होती है और  कुछ  स्कूलों  के पाठ्यक्रम  में  शायद  वह भी नहीं, उनके विचार, आदर्श, तथा  भारतीय  शिक्षा  के बारे  में  उनके  विचार  तो बहुत  दूर  की बात है।

तो क्या  12 जनवरी  को राष्ट्रीय  युवा दिवस  के रूप  मे  मना  लेने मात्र  से स्वामी  जी के प्रति  हमारी  श्रद्धांजलि  की इतिश्री  हो  जाती है?

मेरे विचार  से स्वामी  विवेकानंद  जी आधुनिक  मानव  के आदर्श  प्रतिनिधि  हैं विषेशकर  हम भारतीयों  के लिए  विवेकानंद  से  बढ़कर  कोई दूसरा  नेता नहीं हो सकता।विवेकानंद  के विचारों  को पढ़ें  तो वो  कभी  भी पुराने प्रतीत नहीं  होते। उनकी  शिक्षाएं, उनके आदर्श  विचार  हमारे अभिमान  होने  चाहिए।

भगिनी  क्रिस्टीन  लिखती  हैं  “धन्य  है  वह देश  जिसने उसको जन्म दिया” वास्तव  में  उन्होंने हमें  धन्य  किया  किन्तु हमने  उनके  द्वारा दिए  महान  आदर्शों  को एक तरफ रख दिया। हमने  उनके आदर्श  तथा  शिक्षाओं  को अपनाया  होता  तो शायद आज  भारत  के युवा  सम्पूर्ण  विश्व  में  अलग  ही ओज  से समृद्ध  होते। लेकिन  हमने उनके  विचारों  से किनारा  करके अपने हाथों  से अपने  पैरों  पर कुल्हाड़ी  मारने  का  काम  किया  है।

भारतीय  जीवन  ही नहीं  वरन  समूर्ण  विश्व  का एक भी ऐसा  पहलू  नहीं  जिस पर स्वामी  जी ने अपने  विचार  ना दिए हों और वे  प्रत्येक  विचार आज भी उतने ही प्रासंगिक  हैं l शिक्षा  क्षेत्र  से जुड़े होने के कारण  मेरी तो इतनी  ही इच्छा  मात्र  है कि  स्वामी  जी की  जीवनी  उनकी  शिक्षाए  व्यापक रूप में  स्कूल  पाठ्यक्रमो  में  सम्मिलित  हों जिससे  कम से कम हमारी आने  वाली पीढ़ी  हम से ये ना पूछे  -स्वामी  विवेकानंद  कौन  थे?

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

एम.एच.पी.जी कॉलेज में सोशल मीडिया का भारतीय समाज पर प्रभाव विषय पर संगोष्ठी का आयोजन     |     काॅलगर्ल निकली पत्नी, दलाल के जरिये पहुंची पति के पास     |     जितना मर्जी करो विरोध, वापिस नहीं होगा सीएए : अमित शाह     |     जैथरा क्षेत्र में गहराया गंभीर बिजली संकट – कस्बे में 5 घंटे और देहात में 2 घंटे भी आपूर्ति नहीं     |     कश्मीरी पंडितों के 2 सबसे बड़े हत्यारे आज भी हैं जिंदा     |     80 किलो गांजे के साथ एक गिरफ्तार     |     हिंदुस्तान में जन्मे प्रत्येक व्यक्ति के पूर्वज हिंदू थे : आफताब आडवाणी     |     2 साल पहले की थी लव मैरिज, अब पत्थर से सर कुचलकर कर दी पत्नी की हत्या     |     मोदी के परीक्षा पर चर्चा कार्यक्रम में उदयराज हिन्दू इंटर कालेज पहुंचे शिक्षा मंत्री अरविन्द पाण्डेय     |     प्रधानमंत्री के मन की बात के तहत परीक्षा चर्चा में बोले छात्र छात्राएं     |    

WhatsApp us