गैस डिलीवरी मैन के साथ हादसा होने पर परिवार को मिलेगी 5 लाख की मदद

Previous Post
Next Post

नई दिल्ली (महानाद) : कोरोना संकट से जूझ रहे देश में जो लोग हमारे और आपके घरों तक गैस सिलेंडर पहुंचा रहे हैं उनके लिए अब कंपनियों ने 5 लाख रुपये की अनुग्रह राशि रखने का प्रावधान किया है. इस दौरान अगर कोई दुखद घटना घटती है जिसमें शोरूम में काम करने वाले किसी कर्मचारी, गोडाउन के रखरखाव की जिम्मेदारी रखने वाले कर्मचारी, मैकेनिक या फिर जो लोग घरों तक एलपीजी सिलेंडर पहुंचा रहे हैं उनके साथ कोई हादसा होता है तो उनके परिवार को यह अनुग्रह राशि दी जाएगी.

केंद्रीय पेट्रोलियम मंत्री धर्मेंद्र प्रधान के साथ हुई बैठक के बाद एलपीजी सप्लाई करने वाली कंपनियों ने लिया यह फैसला.

गौरतलब है कि कोरोना संकट से जूझ रहे देश में प्रधानमंत्री ने 21 दिन के लॉकडाउन का एलान किया है. लेकिन इसके साथ ही प्रधानमंत्री ने इस बात की भी घोषणा की है कि लोगों को रोजमर्रा में काम आने वाली चीजों की किल्लत नहीं होने दी जाएगी. इसी कड़ी में खाने-पीने की दुकानों से लेकर पेट्रोल पंप और गैस सिलेंडर पहुंचाने वाली एजेंसियां लगातार खुली हुई हैं और इन जगहों पर लोग लॉकडाउन के हालातों के बावजूद काम कर रहे हैं.

पेट्रोलियम मंत्री के साथ हुई बैठक में लिया गया सुरक्षा कवच देने का फैसला

पेट्रोलियम मंत्री धर्मेंद्र प्रधान ने जब तेल कंपनियों के साथ इस सिलसिले में चर्चा की तो यह तय किया गया कि जो लोग ऐसे हालातों में भी काम कर रहे हैं और लोगों के घरों तक गैस सिलेंडर पहुंचाने की जिम्मेदारी उठाए हुए हैं उनकी सुरक्षा को लेकर भी कदम उठाए जाने की जरूरत है. जिसके बाद गैस सप्लाई करने वाली कंपनियों ने अनुग्रह राशि देने का यह फैसला लिया है. कंपनियों के फैसले से देश के हज़ारों लोगों को रक्षा कवच मिलेगा जो करोड़ों लोगों के घरों तक इन हालातों में भी गैस सिलेंडर पहुंचाने के काम में लगे हुए हैं.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

जिले में फंसे प्रवासियों को मिलेगा फ्री राशन, फार्म भरकर गल्ला विक्रेताओं के यहां करें जमा     |     चकरपुर अण्डरपास व स्थाई अग्निशमन केन्द्र निर्माण को सपाईयों ने दिया धरना     |     रोडवेज द्वारा उधम सिंह नगर से यूपी जाने के इच्छुक लोगों की सूची उपलब्ध करवायेंगे सभी उपजिलाधिकारी     |     गिनीज वर्ल्ड रिकॉर्ड मे दर्ज हुआ उत्तराखंड में उत्पादित सुगंधित व औषधीय धनिया पौधा     |     फीस / बिल माफी की मांग को लेकर यूथ कांग्रेस ने दिया धरना     |     जसपुर के क्वारंटाइन सेन्टर में परोसा जा रहा है बासी भोजन     |     न की जाये पर्यावरण मित्रों के वेतन में कटौती : अनिल वाल्मीकि     |     राहत : भारत में घटी कोरोना की मारक क्षमता     |     गैरसैंण को उत्तराखंड की राजधानी बनाने से सुप्रीम कोर्ट का इनकार     |     कुंडा थाने के अधिकतर एसपीओ अनपढ़, कैसे कराएंगे नियमों का पालन     |    

WhatsApp us