केमिस्ट से लूट का खुलासा, जीवा गैंग के शार्प शूटर सहित 3 गिरफ्तार

केमिस्ट से लूट का खुलासा, जीवा गैंग के शार्प शूटर सहित 3 गिरफ्तार

देहरादून (महानाद) : पुलिस ने कैमिस्ट से लूट का खुलासा करते हुए कुख्यात संजीव महेश्वरी उर्फ जीवा गैंग के शार्प शूटर सहित तीन युवकों को गिरफ्तार किया है। पुलिस ने आरोपियों की निशानदेही पर टिफिन भी बरामद कर लिया है।

पुलिस लाइन में मामले का खुलासा करते हुए डीआईजी अरुण मोहन जोशी ने बताया कि विगत 19 अक्तूबर को एमएस मेडिकोज के मालिक गौरव भाटिया से दून अस्पताल के पास तीन युवकों ने पिस्टल की नोक पर उनका बैग छीन लिया था। बैग में नगदी नहीं थी सिर्फ टिफिन था। पुलिस ने लूट का मुकदमा दर्ज जांच शुरू कर दी। पुलिस की टीमों ने घटनास्थल के आसपास लगे सीसीटीवी फुटेज चैक किये। इसमें एक मोटर साईकिल पर तीन युवक एमकेपी कालेज मार्ग होते हुए डालनवाला की ओर जाते दिखाई दिए। लेकिन इसके बाद वह गायब हो गए। पुलिस ने मोटर साईकिल पर जा रहे युवकों का फोटो तैयार किया और पैरोल पर छूटे अपराधियों से पूछताछ की।

जांच में सामने आया कि इनमें से एक युवक का हुलिया कुख्यात संजीव माहेश्वरी उर्फ जीवा के शार्प शूटर मुजाहिद उर्फ साहिल उर्फ मनोज उर्फ पप्पू पुत्र स्व. मुख्तार अहमद निवासी पंचपुरी एमडीडीए कालोनी डालनवाला से मिल रहा है। मुजाहिद इन दिनों जमानत पर बाहर है। पुलिस को सूचना मिली कि आरोपी मुजाहिद अपने दो साथियों के साथ अन्य वारदात की फिराक में है और पंत रोड पर मौजूद है।

सूचना पर कार्रवाई करते हुए शहर कोतवाल शिशुपाल नेगी, चौकी प्रभारी धारा शिशुपाल राणा, चौकी प्रभारी लक्ष्मण चौक लोकेंद्र बहुगुणा के नेतृत्व में पुलिस टीम ने घेराबंदी कर तीनों को गिरफ्तार कर लिया। मुजाहिद के अन्य साथियों ने पूछताछ में अपने नाम कलीम अहमद उर्फ बिल्लू पुत्र शहीद अहमद निवासी शांति विहार, रायपुर मूल सहारनपुर, उत्तर प्रदेश तथा तरुण तिवारी पुत्र स्व. भगवती प्रसाद निवासी सरस्वती विहार, नेहरू कालोनी, देहरादून बताए।

डीआईजी अरुण जोशी ने बताया कि आरोपी मुजाहिद के पास से एक देसी पिस्टल और जिंदा कारतूस तथा कलीम व तरुण से खुखरी बरामद हुई है। तीनों को बृहस्पतिवार को कोर्ट में पेश कर जेल भेज दिया।

एसपी सिटी श्वेता चैबे ने बताया कि वारदात के बाद तीनों युवक एक ही मोटर साईकिल से कलीम अहमद के शांति विहार स्थित कमरे में पहुंचे। जहां उन्होंने बैग खोला तो पता चला कि इसमें तो सिर्फ टिफिन है। इसके बाद तीनों ने बैग को एमडीडीए कालोनी में एक नाले में फेंक दिया।

कोतवाल शिशुपाल नेगी ने बताया कि आरोपी कलीम एक निजी एंबुलेंस चलाता है। वह कोरोनेशन और दून अस्पताल के आसपास एंबुलेंस खड़ी करता था। एक साल पहले उसकी मुजाहिद से मुलाकात हुई थी। कलीम ने मुजाहिद को बताया था कि कैमिस्ट रोजाना कार लेने दून अस्पताल की पार्किंग में जाता है और उसके बैग में करीब एक लाख रुपये हो सकते हैं। इस पर तीनों ने लूट की योजना बनाई।

पुलिस टीम में एसआई नरेश राठौड़, चौकी प्रभारी शिशुपाल राणा, चौकी प्रभारी लोकेंद्र बहुगुणा, एसआई दीपक धारीवाल और सिपाही लोकेंद्र, राजमोहन, रविशंकर, नवीन, अरशद, प्रमोद और अमित शामिल थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

WhatsApp us